मुक्तके – दौलत आखिरी |

मुक्तके – दौलत आखिरी |
पाँच गज कफन दो गज जमीन दौलत आखिरी |
लाखो करोड़ो की चाह हंगामा बदौलत आखिरी |
आना जाना खाली हाथ लड़ाई किस बात की है |
सब कुछ रह जाएगा यहा नाम सोहरत आखीरी |
और कुछ नहीं
सत्य शिव और सुंदर वही और कुछ नहीं |
छंटा घटा जटा समंदर वही और कुछ नहीं |
बाग बागीचा फूल भवरे झरने नदी सुंदर |
गगन मगन जल पवन वही और कुछ नहीं |
कुछ किया क्या |
परारब्ध भोग लिया फिर न हो कुछ किया क्या |
छूटे जनम मरण जरण बंधन कुछ किया क्या |
जप तप योग ध्यान नहीं कर्म नेक जरूरी है |
तन मे काम क्रोध मद लोभ शमन किया क्या |
राई राई हिसाब
कर लो छुपकर बुराई देख लेगा वो प्रमेश्वर है |
तीनों लोको का नियंता कर्त्ता धर्त्ता वो महेश्वर है |
भले बुरे कर्मो का फल लेखा जोखा रखता है |
पाई पाई राई राई होगा हिसाब वो पीठाधीश्वर है |
श्याम कुँवर भारती (राजभर)
कवि /लेखक /गीतकार /समाजसेवी
बोकारो झारखंड मोब -9955509286


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

11 Comments

  1. Satish Pandey - September 20, 2020, 10:08 pm

    बहुत खूब, सुन्दर अभिव्यक्ति

  2. Shyam Kunvar Bharti - September 20, 2020, 10:42 pm

    हार्दिक आभार आपका पांडेय जी

  3. प्रतिमा चौधरी - September 20, 2020, 10:56 pm

    पाँच गज कफन दो गज जमीन दौलत आखिरी |
    लाखो करोड़ो की चाह हंगामा बदौलत आखिरी |
    आना जाना खाली हाथ लड़ाई किस बात की है |
    सब कुछ रह जाएगा यहा नाम सोहरत आखीरी
    बहुत सुंदर पंक्तियां
    बहुत ही उम्दा अभिव्यक्ति

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 21, 2020, 7:20 am

    अतिसुंदर भाव अतिसुंदर रचना शतप्रतिशत यथार्थ

  5. Suman Kumari - September 21, 2020, 2:54 pm

    बहुत ही सुन्दर

  6. Pragya Shukla - September 21, 2020, 2:55 pm

    True

  7. Shyam Kunvar Bharti - September 22, 2020, 9:22 pm

    तहे दिलसे से आभार आपका प्रतिमा जी

Leave a Reply