मुक्तक 34

मोहब्बत में चराग़ों से उजाले हुआ नहीं करते ,
दिलों में आग लगती है,जहाँ रंगीन दिखता है .
…atr

Related Articles

प्रधानमंत्री जी नरेंद्र मोदी जी की 69 वे जन्मदिवस पर कविता

आसमान में उगता सूरज दिखता है , स्वर्णिम भारत का सपना, फिर सच्चा होता दिखता है। हुकुमत शाही अफसरों ने त्यागी, कर्म योग की अब…

Responses

New Report

Close