मुक्तक

लोगों की बातों में आकर मुझको ना तुम निराश करो
मैं प्रणय निवेदन करता हूँ बस इतनी पूरी आश करो |
वे भी उन्मादी प्रेम रथी पर में पर वंचन करते है
सो हृदयंगम कर प्रीत मेरी मत इसका उपहास करो ||
उपाध्याय…


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

2 Comments

  1. Sridhar - July 9, 2016, 9:16 pm

    Uttam …

  2. राम नरेशपुरवाला - October 27, 2019, 12:58 am

    उत्तम

Leave a Reply