मेरा गाँव.

सफ़र मे अपना गाँव भूल गये है,
मोहब्बत वाली छाव भूल गये है

महक मिट्टी कि बारिश वाली
वो खुशियाँ शिफारिश वाली
हम उनसे दुर इतने क्यो है अब
इनसे मजबुर इतने क्यु है अब
कि खुद से खुद का अलगाव भुल गये है,
सफर मे अपना••••••••••••••••••

सहर, गाँव हमारा दिल से जाता नही है,
जैसे महबुब को कोई भुल पाता नही है
अब तो त्योहारो का सहारा बचा है केवल
बिन इसक अब कोई घर जाता नही है

बडो के आशिषो का फैलाव भुल गये है
सफर मे अपना••••••••••••

Related Articles

ऐसा क्यों है

चारो दिशाओं में छाया इतना कुहा सा क्यों है यहाँ जर्रे जर्रे में बिखरा इतना धुआँ सा क्यों है शहर के चप्पे चप्पे पर तैनात…

Responses

New Report

Close