वचन दिवस

गुजारिश करते हैं हम आज
तुमसे एक मानोगे?
लुटाओगे मुझ पर जान
मेरी ही बात मानोगे।
नही जाओगे तुम दूर अब
गैरों की बाहों में
सजाओगे नहीं सपनें
तुम अब दूजी फिज़ाओं में ।
इस वचन दिवस पर
इतनी ही इल्तिजा है तुमसे
रहोगे बस मेरे हमदम
रहोगे बस मेरे हमदम।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

13 Comments

  1. Priya Choudhary - February 11, 2020, 10:58 am

    वाह

  2. NIMISHA SINGHAL - February 11, 2020, 1:01 pm

    Wah

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - February 11, 2020, 8:24 pm

    Nice

  4. Kanchan Dwivedi - February 11, 2020, 8:40 pm

    Wah

  5. Anita Mishra - February 13, 2020, 9:58 am

    अति सुन्दर भावाभिव्यक्ति सच

  6. Garima Sethi - February 23, 2020, 12:14 pm

    Good

  7. Sona Soni - February 23, 2020, 12:20 pm

    😘😘😘

  8. Ganesh Ji - February 23, 2020, 12:28 pm

    Good luck

Leave a Reply