फकत इतना

तुमने भी मोहब्बत की हमने भी मोहब्बत की फर्क बस फकत इतना था हम तो तुमसे करते थे तुमने किसी और से ही की…

“पृथ्वी दिवस”

पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल) स्पेशल ——————————– इन दो हाथों के बीच में पृथ्वी निश्चित ही मुसकाती है पर यथार्थ में वसुंधरा यह सिसक-सिसक रह जाती…

संविधान निर्माता डॉक्टर:- भीमराव अंबेडकर

संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को है शत शत नमन जिन्होंने बढ़ाई देश की शान हम करते हैं उनका वंदन संविधान निर्माण किया और पालन…

सुबह होगी:- स्वर्ण रश्मियों को झोले में लेकर….

सुबह होगी हाँ, सुबह होगी लेकर स्वर्ण रश्मियों को अपने झोले में कुछ खंगालेगी गेहूं की अधपकी बालियों को लहलायेगी उलझी हुई वृक्षों की लटों…

ओ लेखनी ! सुन बात मेरी ( हाईकु विधा से अलंकृत )

जापानी विधा:- हाईकु कविता ————————————— ************************** —————————————- ओ लेखनी ! सुन बात मेरी लिख अब दीन हीनों का दर्द तू बढ़ चल कर्म पथ पर……

New Report

Close