एक तिरंगा

किसी के साथ कितना भी वक्त बिताओ वो एक दिन चला ही जाता है जिसे जान से ज्यादा चाहो वही दिल दुखाता है इसीलिये अपने…

Alvida 2021

थम गया सिलसिला 2021 का हमें रुलाकर जा रहा है , दिया भले ही कुछ ना हो इसने पर बहुत कुछ सिखा कर जा रहा…

बासी फूल

हम अपनी रातों को गुलजार ना बैठे थे किसी बेवफा को अपना यार बना बैठे थे। सूंघ के देखा तो खुशबू तक नहीं आई, बासी…

मन्नत

तू मेरा है मगर मेरा तो नहीं ये दिल तेरा है मगर तेरा तो नहीं एक उम्मीद की डोर है जिसने मुझको तुझसे बाँध रखा…

“तू कातिल”

जब दिल में दर्द सा उठा एक तीर सा चुभा, जो कल था मेरी निगाहों से मारा गया। आज मेरे ही दिल का कातिल बना।…

तुम ही हो”

मेरी हर सांस में तुम ही हो मेरी हर बात में तुम ही हो। जीवन की सुंदर छवि में जब ढूंढती हूँ मैं, मेरे मन…

जीवन ज्योति

जीवन ज्योति की एक ललित सरिता बहे सुंदर सुकोमल कविता बने, हो चहुँ ओर प्रकाश फैला हुआ मेरी लेखनी में वो बात रहे। नहाए हुए…

“करवा चौथ”

करवा चौथ के नाम पर जो झूठ बोलते हैं खा पी के भूखे रहने का ढोंग करते हैं उनसे अच्छे तो हम हैं साहब! व्रत…

तकलीफें

हम अपनी तकलीफें किसी को बता नहीं सकते, कोई तमाशा ना बना दे मेरी बेबसी का इसलिए किसी को दिल के छाले दिखा नहीं सकते।

नासमझ

मेरी शराफत को लोग मेरी कमजोरी समझते हैं नासमझ है वह लोग जो मुझे नासमझ समझते हैं।

एक दुआ

एक दुआ है खुदा से कि खुदा ऐसे ख्वाब ना दिखाएं जो पूरे ही ना हो ऐसे लोगों से ना मिलाए जो कभी अपने ना…

गुनाह

हम गलत हैं या सही हमें कुछ भी पता नहीं पता बस इतना चला है ये दिल मचल चला है फिर एक बार गुनाह करने…

सुविचार-7

कभी-कभी लगता है हम दुनिया के सबसे बदकिस्मत इन्सान हैं पर°° जब अपने हाथ पैरों को सही सलामत देखते हैं तो अमीरी का एहसास होता…

सुविचार-5

संसार में ईश्वर के बाद एक कवि ही है जो हथेली पर सूरज उगा सकता है और पथ्थर पिघला सकता है ये काम साधारण मानव…

सुविचार-4

विपक्ष हो या आलोचक दोनों हमारी कमियों को उजागर करते हैं ————————- अतः सरकार हो या कवि उसे स्वयं को बेहतर बनाने में मदद मिलती…

शर्म करो योगी!!

तुम्हें क्या लगता है योगी ? इंटरनेट बंद करने से तुम्हारे गुनाह छुप जायेंगे बीजेपी में रह कर कोई कुछ भी करे उसके पाप धुल…

शहर वाले हो गए

गाँव की गलियाँ और गाँव का सवेरा झिलमिल सितारे और कलियों का सेहरा बीतने लगीं अब तो शामे भी लम्बी बाजरे की रोटी और भिंडी…

तुम्हारी बातें

कभी-कभी हंसी आ जाती है तुम्हारी बातों पर। रातें भी मुस्कुराती हैं तुम्हारी बातों पर। जाग उठते हैं दिल में अरमान मेरा कल मुस्कुराता है…

“रिश्ते”

माँ के आँचल में छुप गए जब डर लगा पापा ने हिम्मत सिखाई और राह चलना सिखला दिया बहन ने रखी पहनाई स्नेह से घर…

New Report

Close