वाणी

मानव का गहना है वाणी,
वाणी का भोगी है प्राणी ।
मधुर वचन है मीठी खीर,
कटु वचन है चुभता तीर ।
सद वचन है सदा अनमोल,
मन कांटे से इसको तौल ।
हिय का रूप है वाणी,
ये बहु चंचल बहता पानी ।
मानव का गहना है वाणी,
वाणी का भोगी है प्राणी ।
डूबते का सहारा मधु वाणी,
हँसते का घातक कटु वाणी ।
सदाचार की पोषक सद वाणी,
दुराचार की पोषक दुर्वाणी ।
शत्रु नाशक है मधु वाणी,
शत्रु पोषक है कटु वाणी ।
मानव का गहना है वाणी,
वाणी का भोगी है प्राणी ।
जख्म को भर दे मधु वाणी,
जख्म नासूर कर दे कटु वाणी ।
मानव का गहना है वाणी,
वाणी का भोगी है प्राणी ।

Related Articles

बढ़ता ही जा रहा

क्यूँ बारम्बार किया जाता महिलाओं के साथ घृणित अपराध, कयी तरह की वेदना-संताप से गुजरती,जिनसे होता बलात्कार । हर कानून बौना सावित, हर जायज कोशिश…

Responses

New Report

Close