वाणी

मानव का गहना है वाणी,
वाणी का भोगी है प्राणी ।
मधुर वचन है मीठी खीर,
कटु वचन है चुभता तीर ।
सद वचन है सदा अनमोल,
मन कांटे से इसको तौल ।
हिय का रूप है वाणी,
ये बहु चंचल बहता पानी ।
मानव का गहना है वाणी,
वाणी का भोगी है प्राणी ।
डूबते का सहारा मधु वाणी,
हँसते का घातक कटु वाणी ।
सदाचार की पोषक सद वाणी,
दुराचार की पोषक दुर्वाणी ।
शत्रु नाशक है मधु वाणी,
शत्रु पोषक है कटु वाणी ।
मानव का गहना है वाणी,
वाणी का भोगी है प्राणी ।
जख्म को भर दे मधु वाणी,
जख्म नासूर कर दे कटु वाणी ।
मानव का गहना है वाणी,
वाणी का भोगी है प्राणी ।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Pragya Shukla - October 22, 2020, 11:12 am

    Nice

  2. Geeta kumari - October 22, 2020, 12:40 pm

    वाणी पर बहुत ही सुन्दर कविता ,एक दम सत्य.

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 22, 2020, 2:10 pm

    अतिसुंदर रचना

Leave a Reply