शहीद

Saavan pratiyogita me सहभाग लेना चाहती हुं !

मेरी कविता स्वीकार करें.

*शहीद*

शहीद हुवा हैं मेरा सैनिक
युद्धभूमी गलवान
हम सबको अभिमान शौर्य का
भारत हैं बलवान !!

शस्त्र उठाओ अस्त्र उठाओ
पवित्र भूमी का तिलक लगाओ
स्वदेस मेरा जीवन यारो
यही है मेरी शान !!

निर्भर हैं ये आत्मन मेरा
जब तक है सांसे तनमे
लढता जाऊं कण कण भूमी
गाऊ भारत गान !!

दुष्मन को पानी दिखला दूं
इस मिट्टी की आन
लिये तिरंगा आगे बढता
यही है मेरी जान !!

*Mrunal/vinita ghate*
*Pune*

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

एक शहीद का खत

एक शहीद का खत….. ‘माॅ मेरे खत को तू पहले आॅखों से लगा लेना चूमना होठों से इसे फिर आॅचल में छिपा लेना।’ कि….. बेटा…

Responses

      1. शहीद हुआ है।
        युद्धभूमि।
        लड़ता जाऊं
        लिए तिरंगा आगे बढ़ता।
        पवित्र भूमि
        स्वदेश
        दुश्मन
        जब तक हैं सांसे तन मन में
        यह कुछ वर्तनी की गलतियां हैं जो शब्द मैंने सुधार कर डाले हैं आप पढ़ सकती हैं और देख देख सकती हैं मेरा मेरा कार्य सिर्फ आपको सूचित करना था इसे अन्यथा मत लीजिएगा

New Report

Close