सच्चाई

मुंह में राम बगल में छुरा लिए आते हो
अपनी गंदी राजनीति से सबको लड़वाते हो
क्या फर्क पड़ता है कि तुम हिंदू हो या मुसलमान
अपने उन्ही मेले हाथों से
शांति के कबूतर उड़ाते हो
अल्लाह के बंदे, भगवान की रचना है हम
क्यों अयोध्या को आधा-आधा कटवाते हो
अगर सच्चे इंसान हैं हम तो
फिर क्यों तुम घबराते हो
इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है
कि तुम नमाज पढ़ते हो या फिर दिए जलाते हो.


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

12 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 11, 2019, 9:35 am

    सुन्दर

  2. NIMISHA SINGHAL - November 11, 2019, 9:54 am

    Sahi kha

  3. राही अंजाना - November 11, 2019, 11:43 am

    वाह

  4. nitu kandera - November 11, 2019, 4:37 pm

    धन्यवाद

  5. Abhishek kumar - November 24, 2019, 9:09 am

    सही है

Leave a Reply