सहारा तू ही साकी

आबाद जहां करने को, उम्मीद एक ही बाकी है,
अब न कोई ज़िंदगी में, सहारा तू ही साकी है ।

हिज्र-ए-महबूब ने मुझे, क्या से क्या बनाया,
खुद को डूबोया प्याले में, शराब तू ही साथी है ।

आज दस्तकश वो कहते, अजनबी तुम हो कौन,
कल जिन्हें ऐतराफ़ था, मैं चिराग़ तू ही बाती है ।

कुछ भी ना रही आरज़ू जिंदगी में, तेरे सिवाय,
ना किसी शय का तलबगार, शराब तू ही भाती है ।

कोई रहगुज़र नहीं याद, मयकदा ही मेरी मंज़िल,
गुज़रे जो ‘देव’ किसी कूचे से, याद तू ही आती है ।

देवेश साखरे ‘देव’

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

11 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - November 4, 2019, 12:19 pm

    Khub kha

  2. Astrology class - November 4, 2019, 1:39 pm

    Jai ho

  3. राही अंजाना - November 4, 2019, 10:10 pm

    Wah

  4. महेश गुप्ता जौनपुरी - November 5, 2019, 3:58 pm

    वाह बहुत सुंदर

  5. nitu kandera - November 8, 2019, 9:18 am

    Good

Leave a Reply