सॉझ को आखिर सुख का सवेरा कब तक लिक्खूं

सॉझ को आखिर सुख का सवेरा कब तक लिक्खूं !

उजियारे को घोर अंधेरा कब तक लिक्खूं !!

चारो तरफ है घोर निराशा फिर भी आशा लिख देता हूं !

सारे सुखों पे दुःख का डेरा कब तक लिक्खूं !!

Related Articles

“मैं स्त्री हूं”

सृष्टि कल्याण को कालकूट पिया था शिव ने, मैं भी जन्म से मृत्यु तक कालकूट ही पीती हूं।                                                    मैं स्त्री हूं।                                              (कालकूट –…

छत्तीसगढ़ के घायल मन की पीड़ा कहने आया हूँ।

मैं किसी सियासत का समर्थन नहीं करता हूँ। भ्रष्टाचार के सम्मुख मैं समर्पण नहीं करता हूँ॥ सरकारी बंदिस को मैं स्वीकार नहीं करता हूँ। राजनीति…

Responses

New Report

Close