स्ततीत्व

बचा लो अब अपना अस्तित्व,
गांव शहर में बदल रहा है,
याद कर लो गांव की सोंधी मिट्टी,
अब शहर गांव को निगल रहा है।।

✍महेश गुप्ता जौनपुरी

Related Articles

Responses

New Report

Close