हठधर्मी

बापू बड़े दुविधा  में पड़ गए,
लाडले ने सिंहासन का जो हट कर बैठे l
एक सिंहासन दोनों मे कैसे बांटे,
कलेजे के जो टुकड़े ठहरे l
जमीन को धर्म में बांटे ,
भारती के सीने में खंजर से लकीर काटे l
बापू यहां भी न रुके ,
महानता की लालसा मन मे थे पाले l
रोते विलकते हिन्द पर एक और एहसान कर डाले ,
विषैले, गद्दार सांप को हिन्द के कंधे डाले l
भविष्य के दंगे का एक विज बो गए  ,
हिन्द को नासूर जख्म दे गए l
गंगा, यमुना तहसीब सीखा गए ,
एक धर्म ने दिल मे बसा लिए l
दूसरे ने तोते जैसे रट डाले ,
निर्मम होने मे असानी हुआ l
सुभाष को संघ से निकाले,
उनके बढ़ते कद को देखकर घबराए l
खुदीराम को गलत राह कहकर,
बचाने से पलरा झाड़े l
जालियावाला कांड में हजारों आन्दोलनकारी वीरगति हुए,
मौन रहकर आन्दोलन वापस लिए  l
खुद को महान बनाने के चक्कर में,
गरम पंथी को गलत ठहराए l
उनके संघर्ष को झू‍ठला भी नहीं सकते,
हठधर्मी नीति को अपना भी नहीं सकते l
एक को इस्लामिक दूसरे को धर्मशाला,
सोचो इनको बापू किसने बना डाला ll

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

Responses

New Report

Close