हमारी ज़िन्दगी का एक हिस्सा…..

तन्हाई खुद-बा-खुद बन गयी हमारी ज़िन्दगी का एक हिस्सा
चलो कोई ये तो नहीं कहेगा अब, ये तन्हा है दुनिया में………………..!!

D K

Related Articles

कुछ नया करते

चलो कुछ नया करते हैं, लहरों के अनुकूल सभी तैरते, चलो हम लहरों के प्रतिकूल तैरते हैं , लहरों में आशियाना बनाते हैं, किसी की…

Responses

New Report

Close