हर रास्ता वहीं पे जाता

क्यों ना!
क्षितिज के पार ….जाल डाल…. खींच ले वह आलौकिक नजारा,
जहां बसे ग्रह नक्षत्रों का खेल …..बना देता हम सबको बेचारा।

जब चाहा जिसे चाहा एक झटके में वो काटा!!
डोर जिससे बंधा था हर जीव … जीव से परमात्मा।
ना उम्र का तकाजा ना बीमारी का ठिकाना,
हंसता खेलता इंसान भी हो जाता प्रभु को प्यारा।

फिर किस लिए बनावट फिर किस लिए दिखावा,
सीधा हो या जटिल हो,
हर रस्ता वही पे जाता।

निमिषा सिंघल

Related Articles

हम दीन-दुःखी, निर्बल, असहाय, प्रभु! माया के अधीन है ।।

हम दीन-दुखी, निर्बल, असहाय, प्रभु माया के अधीन है । प्रभु तुम दीनदयाल, दीनानाथ, दुखभंजन आदि प्रभु तेरो नाम है । हम माया के दासी,…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

एक उम्रभर

जिसे अपना समझकर चाहतें रहे एक उम्र भर जिसे अपना कहकर इतराते रहे एक उम्र भर जिससे आईने में देखकर शर्माते रहे एक उम्र भर…

Responses

New Report

Close