सुबह सवेरे जागकर , करो सूर्य प्रणाम
अंधकार दूर हो जाये ,जग चानन हो जाये ।।
रात्रि के पहर में , चांद को अरक दीजिए ।
चाँदनी हो प्रसन्न ,जीवन सफल बन जाए ।।
रीता जयहिंद
9717281210

Related Articles

पहर

तीन पहर बीत चले चांद कुछ दूर हुआ कुछ मिल गया तम में कुछ छूटा रह गया आकृति बिखर गयी धुंधली सी विक्षिप्त सी फैल…

Responses

New Report

Close