हिन्दी-उर्दू कविता

कुफ्र

अतीत के फफोले तेजाबी बारिश दहकते लावे की तपिश या कोई आतिश ताउम्र का सबक बस एक कुफ्र। निमिषा »

गुजारिश

गुजारिश की मैने लाखों दफ़ा रो रोकर उससे दिल ना पसीजा मगर उसका आंखें बंद होने को आयी हैं बहुत रो चुके अब दर छोड़ चला उसका »

दिल रोंक लेता है

रोज सोचते यही है उनसे तोड़ देंगे सारे नाते याद में उनकी नहीं कटेगी रो-रोकर मेरी रातें फ़ैसला जब करते हैं हम दिल रोक लेता है मेरी आँखों से बहे समंदर घुटती हूं अंदर ही अंदर दर्द है जब हद से बढ़ जाता दिल रोक लेता है »

दिल रोक लेता है

रोज सोचते यही है उनसे तोड़ देंगे सारे नाते याद में उनकी नहीं कटेगी रो-रोकर मेरी रातें फ़ैसला जब करते हैं हम दिल रोक लेता है मेरी याद से बहे समंदर घुटती हूं अंदर ही अंदर दर्द है जब हद से बढ़ जाता दिल रोक लेता है »

हाथ की लकीरें

कुछ तो खेल है हाथ की लकीरों का हाथ ना आया लगाया हाथ जिसमें न पाने की तमन्ना थी मिला हरदम वही मुझको जुस्तजू जिसकी थी हमने उसी से हाथ धो बैठे जिंदगी बन गई वीरान और पथरा गई आंखें अरमां पड़ गए ठंडे सपने हो गए सपने किसी ने था कहा हमसे सब है खेल किस्मत का हमें भी आ गया ऐतबार लड़े जब हम मुक़द्दर से मंजिल है नहीं आसान बहुत मशरूफ है राहें कोसते कुछ है किस्मत को कुछ बनाते हैं खुद राहें ना हारेंगे कभी हिम्मत... »

हाँथ की लकीरें

कुछ तो खेल है हाथ की लकीरों का हाथ ना आया लगाया हाथ जिसमें न पाने की तमन्ना थी मिला हरदम वही मुझको जुस्तजू जिसकी थी हमने उसी से हाथ धो बैठे जिंदगी बन गई वीरान और पथरा गई आंखें अरमां पड़ गए ठंडे सपने हो गए सपने किसी ने था कहा हमसे सब है खेल किस्मत का हमें भी आ गया ऐतबार लड़े जब हम मुक़द्दर से मंजिल है नहीं आसान बहुत मशरूफ है राहें कोसते कुछ है किस्मत को कुछ बनाते हैं खुद राहें ना हारेंगे कभी हिम्मत... »

गुलामी की जंजीरे

गुलामी की जन्जीरों में जकड़े है ज़िस्म मेरा इस दिल का सौदा करें भी तो कैसे। जिस्म तो जिस्म रूह भी है बेबस तुझे मोहब्बत का सजदा करें भी तो कैसे। तुम सोचोगे सब बहाने हैं मेरे जब दोस्त ही कर बैठे बग़ावत तो अपनी सदाकत की नुमाइश करें भी तो कैसे। तुम्हें तो अर्सा हुआ है हम पर इल्जाम लगाए हुए जब तुम्ही बन बैठे अदावती तो हम वफा की गुजारिश करें भी तो कैसे। सजा दे देता है जहां बिना अर्जी सुने तुम तो साथ नहीं ... »

सीरत

कोई दिल दरबारे खास बने तो जान निछावर करते हैं हमें सूरत की प्रवाह नहीं सीरत से मोहब्बत करते हैं »

हम तुमसे दफा नहीं होते

प्यारे कभी बेवफा नहीं होते। अपने कभी खपा नहीं होते। ऐ वक्त हमसे खपा मत होना क्योंकि हम तुमसे दफा नहीं होते।। »

गाना

पदम् गाना🎶🎵🎤🎶🎤 गाना🎶🎵🎶🎤🎵🎶🎤🎵🎶🎤🎵🎶🎤 »

Page 3 of 78912345»