Hindi-Urdu Poetry

मुलाकात (हास्य व्यंग)

कल कालेज के एक पुराने मित्र से मुलाकात हो गयी देख कर भी नहीं पहचाना, कुछ अजीब बात हो गयी मैं बोला, क्यों भाई, पुराने यारों से याराना तोड़ लिया कालेज के मोटू से आज, अपना मुंह कैसे मोड लिया मोटापे के जंगल में मंगल, परिवर्तन कैसे कर लिया अपना चोला, मेरे मोटू भाई, इतना कैसे बदल लिया मैं क्या अपना कोई दोस्त, तुझे नहीं पहचान सकता ८० को देख १२० किलो वाला, कोई नहीं मान सकता कीटो डाइट, नेचुरोपेथी, या बेरिया... »

क्या वजूद है मेरा

कौन हूँ मैं, और क्या वजूद है मेरा। जहाँ में क्या पहचान मौजूद है मेरा। शायद ऊँचा कोई मुकाम पा न सका, और कोई नहीं, ये कसुर खुद है मेरा। गर कोई पूछे, क्या हासिल किया तूने, ताले पड़ गए, जुबाँ दम-ब-खुद है मेरा। शराफत को लोग कमजोरी समझ बैठे, किसी का दिल ना टूटे मक़्सूद है मेरा। कई दफा धोखा खा चुका ‘देव’, फिर भी, यकीन करने का दिल बावजूद है मेरा। देवेश साखरे ‘देव’ दम-ब-खुद- शांत, मक... »

सवाल

पहले खयाल ए ख्वाब भी आस-पास न थे, आज तुमसे मिलके ज़िन्दगी ख्वाब हो गई है॥ चन्द जवाब थे मगर सवाल आस-पास न थे, आज तुमसे मिलके ज़िन्दगी सवाल हो गई है।। राही अंजाना »

Tum chupe ho kaha

तुम छुपे हो कहां तुझे ढूंढूं मैं यहा….. बिना तेरे जीवन मेरा अधूरा यहां, तेरी यादों का दीपक मैं जलाऊं यहां , आ जाओ तो फिर एक बार तुम यहां , तुम छुपे हो कहां तुझे ढूंढूं मैं यहां….. तेरी ख्वाबों का रंग महल मै सजाऊ यहां, तेरी बातों की चिलमन गूंजे हरदम यहां , आ जाओ तो फिर एक बार तुम यहां, तुम छुपे हो कहां तुझे ढूंढूं मैं यहां…… तेरे बिना मैं अधूरी जीऊ कैसे मैं यहां, मांगी दुआ म... »

Mai tere prem me krishna

मैं तेरे प्रेम में कृष्णा,अपना नाम कर दूंगी, जो तू न आया तो तेरी याद में सुबह शाम कर लूगी, मैं राधा नही मीरा नहीं मैं भी एक योगन हूं, तेरी मुरली की धुन सुनने को मैं भी व्याकुल हू, मै तेरे प्रेम मे कृष्णा मै अपना नाम कर दूगी, जो तू न आया तो तेरी याद मे सुबह शाम कर लूगी, तू आए न आए यह तो तेरी मर्जी है , पर इतना समझ ले तू कि मैं तेरे चरणों की दासी हू, मैं तेरे प्रेम में कृष्णा अपना नाम कर दूंगी, जो त... »

बढ़ती उम्र

बढ़ती उम्र का मतलब ये नहीं कि इंसान जीना छोड़ दे सारे काम बन्द कर मौत का इंतज़ार करना शुरू कर दे सेवानिवृति एक पड़ाव है जहां थोड़ा कुछ बदल जाता है थोड़ा पीछे छूट जाता है, और थोड़ा नया मिल जाता है बढ़ती उम्र डरने या नकारात्मक सोचने का नाम नहीं है और जीवन यात्रा में सेवानिवृति, रुकने का नाम नहीं है सेवानिवृत होने का मतलब जीने पर पूर्ण विराम नहीं है ये तो बस एक कोमा है, जीवन पर कोई लगाम नहीं है सोच अगर तंग र... »

बारिश को हद में रहना होगा

कोई बारिश से कहदे, उसको हद में रहना होगा गर बरसना है तो हमारी शर्तों पर बरसना होगा बेलगाम, बेखौफ, बेवक्त कहीं भी यूं बरस पड़ना और झमाझम बरस के सड़कों पर हंगामा करना ये माना कि हर तरफ पीने के पानी की कमी है लेकिन जीव पर अत्याचार, बारिश की बेरहमी है यहाँ पर बरसने को प्रशासन की मंजूरी जरूरी है व्यवस्था से बगावत करना तो बर्दाश्त नहीं होगा यहाँ सड़कों में गढ़ढ़े और खुले मेनहोल आम है गटर और गंदे नाले अवरुद्ध... »

सोचा न था

सुन सदा मेरी, वो चल निकले। मेरे अपने ही संगदिल निकले। जिन पे भरोसा किया था हमने, वो भी साजिशों में शामिल निकले। ना रही कोई उम्मीद उनसे अब, मेरे जज़्बातों के, वो कातिल निकले। हम तो नादान, नासमझ ठहरे, समझदार हो, क्यों नाकाबिल निकले। हमें तैरने का हुनर आता नहीं, बीच मझधार छोड़, वो साहिल निकले। उन्हें अंदाजा है, ‘देव’ की ताकत का, पीठ पर वार कर, वो बुजदिल निकले। देवेश साखरे ‘देव’... »

Ishak Andaj e najrana

Ishak andaj e najrana Kisi ki Khushi ke liye us ki Khushi me shrik hona . Kisi ki Khushi ke liye uski khusi banna . Kisi ko khush krne ke liye use Khushi Dena . Ishak andaj hai e najarana Har masum sunahe har spane lubhane hasta rota hu me akele najre chupa ke … Aankho me aaj kuch or hi chmak rahti hai Jab najre chhuki ho tere samne to bas Teri hi chlti hai Din rat uhi kat Jate hai aapki sat... »

कवि तो उड़ता पंछी है

सारे पिंजरे तोड़ चुका वो . मन की मर्जी से जीता है. कवि तो उड़ता पंछी है जो उमंगो के आसमान मे उड़ता है कवि तो बहुत ही प्यासा है बस भावनाओ मे बहती नदी का पानी पीता है शान से वो रहता है कलम की डाल पर बैठकर सकून के पल वो जीता है »

Page 4 of 659«23456»