Dilly ka pradution

याद आती है उनकी मौजूदगी के दिन,
सुबह की मीठी चाय से शुरू होते थे वे दिन,
बात बात पर मुझे चिढाना उनका ,
मेरा रूठना और फिर मुझे मनाना उनका,
रोज नए नाम से मुझे पुकारना उनका ,
शाम को हाथों में सब्जी लेकर दफ्तर से लौटना उनका,
काश कि हम दिल्ली आए ही न होते ,
तो प्रदूषण की चपेट मे वे पडे ही न होते ,
काश कोई जादू होता और पहिया समय का घुमा पाती मै,
तो सब कुछ पहले जैसा होता ,
कुछ ही दिन पहले समझती थी खुद को खुशकिस्मत ,
अब समझती हूं खुद को बदकिस्मत,
ख्वाबों में तो आते हो रोज तुम ,
पर ख्वाब टूटते ही खुद को पाती हू तन्हा मै ,
विश्वास नहीं होता मन को कि तुम नहीं हो ,
तुम यहीं कहीं हो, यहीं कहीं हो ,यहीं कहीं हो |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. Ashmita Sinha - September 17, 2019, 4:15 pm

    Nice

  2. NIMISHA SINGHAL - September 17, 2019, 5:49 pm

    Superb 🌹

  3. राम नरेशपुरवाला - September 17, 2019, 6:27 pm

    वाह

  4. देवेश साखरे 'देव' - September 17, 2019, 8:02 pm

    बहुत खूब

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 17, 2019, 11:44 pm

    वाह बहुत सुन्दर रचना

Leave a Reply