Dipawali

दीपावली है खुशियों का त्योहार पर
यहां सब इसे प्रदूषण का जरिया बना बैठे हैं,
यहां सभी बहरे बन बैठे हैं,
लगता है कानों में तेल और रुई दे बैठे हैं,
फिक्र नहीं कोई जिए या मरे,
यहां तो सभी दिल के फकीर बन बैठे हैं,
रब ने इतना कुछ दिया इन्हें,
फिर भी खुशियां यह दूसरों को रौंदकर मना बैठे हैं,
,पटाखे छोडे है इन्होने इतने कि अब ये दिन को शाम बना बैठे है,
दम घुट रहा है लोगों का यहां यह पटाखे पर पटाखे जलाए बैठे हैं,
कौन समझाए इन्हें हम सभी लाचार बन बैठे हैं |


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

12 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - October 28, 2019, 7:06 pm

    Happy Deepawali dear

  2. Kumari Raushani - October 29, 2019, 1:46 pm

    वाह

  3. nitu kandera - October 30, 2019, 11:29 am

    Good

  4. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 30, 2019, 9:53 pm

    वाह बहुत सुंदर

  5. Abhishek kumar - November 25, 2019, 12:01 am

    🎂🎂🎂

Leave a Reply