Indra Pandey

  • बहुत ही उत्तम और सराहनीय कविता है सर, वाह

  • बहुत अच्छी कविता, श्रेष्ठ कवि सम्मान की अनेकानेक बधाइयाँ सर

  • Indra Pandey posted a new activity comment 5 months, 1 week ago

    मोहन जी इसमें आपको बुरा क्यों लग रहा है। आपने महीने की शुरुआत में यानी कि 8-9 सितम्बर को बात डाली थी, उसमें आप शायद जिन्हें लक्षित करना चाह रहे थे, उन्होंने कभी फिर न किसी पुरानी कविता पर कोई टिप्पणी की न एक किसी कविता पर एक से दो कमेन्ट किये और न ही एक मिनट में दो तीन चार कमेन्ट किये। उन लोगों ने तो आपकी कही बात को मान लिया। बात खत्म हो गई।…[Read more]

  • कवि का दर्द
    अपनी पुरानी कविता पर अचानक आये कमेंट पर कवि खुश हो ही रहे थे कि अचानक फिर उसी समय उनकी दूसरी पुरानी कविता पर कमेन्ट आ गया। खुश होते कि अचानक उनकी तीसरी कविता पर उसी समय कमेन्ट आ गया। अब वे सोच ही रहे थे कि अचानक उनकी चौथी कविता पर भी कमेंट आ गया। एक समीक्षक द्वारा एक मिनट में चार कविताओं पर कमेंट पाने के बाद वे दुखी हो गए क्योंकि…[Read more]

    • ये सब कदाचित नम्बर बनाने(points) के लिए किया जा रहा है, जो कि अनैतिक है।सावन की टीम से अनुरोध है कि इस पर नियंत्रण लगाया जाए, धन्यवाद ।

      • यह बात तो गीता जी सही नहीं है ,उस दिन मैंने इस विषय पर अपने विचार साझा किए थे तब तो नहीं बोले थे बड़ी चुप्पी साधे हुए थे, मैंने हार कर वह पोस्ट डिलीट कर दी,कहां है अब वो इंदु पांडे जी ,एमएस लोहाघाट, चंद्रा पांडे, देवी कमला इत्यादि उस दिन कमेंट करने का बड़ा सपोर्ट कर रहे थे अब आ कर समझाएं इंदिरा पांडे को और गीता जी को👏👏👏

        • मैने तो उस दिन कुछ भी नहीं बोला था मोहन जी।मुझे कौन क्या समझना चाहता है।आज मुझे कुछ गलत लगा तो बोल दिया।फिर सावन कि टीम ने भी इस चीज को सपोर्ट किया है।मैनें आपका विरोध तो नहीं किया था ना उस दिन ।हां बस मैने अपने विचार साझा नहीं किए थे,क्यूंकि मैं उस दिन कुछ बिज़ी थी।मुझे आपसे विरोध की तो उम्मीद नहीं थी मोहन जी।ये बात तो सबके लिए ही है किसी एक…[Read more]

        • मुझे कोई क्या समझाना चाहता है
          किसी एक का तो लाभ नहीं हो रहा है।…. इन दो वाक्यों में टाइपिंग मिस्टेक हुई है तो कृपया इसे इस प्रकार पढ़ा जाए….. धन्यवाद 🙏

        • मोहन जी इसमें आपको बुरा क्यों लग रहा है। आपने महीने की शुरुआत में यानी कि 8-9 सितम्बर को बात डाली थी, उसमें आप शायद जिन्हें लक्षित करना चाह रहे थे, उन्होंने कभी फिर न किसी पुरानी कविता पर कोई टिप्पणी की न एक किसी कविता पर एक से दो कमेन्ट किये और न ही एक मिनट में दो तीन चार कमेन्ट किये। उन लोगों ने तो आपकी कही बात को मान लिया। बात खत्म हो गई।…[Read more]

      • मैम उस दिन पोस्ट करने का भाव मुझे आपकी वजह से ही आया था क्योंकि आपके पॉइंट नहीं बढ़ रहे थे मगर कुछ लोगों के गलत तरीकों से बढ़ते ही जा रहे थे इसलिए मैंने अपने विचार प्रकट किए थे मगर आपने कोई राय ही नहीं दी थी
        और मैम मैंने भी मंच पर कमेंट से संबंधित विवाद खत्म करने के लिए ही पोस्ट की थी अभी मेरे पास स्क्रीन शॉट हैं किस तरह फेक आईडी वाले लोग मुझ पर…[Read more]

    • मेरे साथ तो कल फिर वही हुआ, मैं एक दिन के लिए सावन पर नहीं आई और मेरे नंबर कम।वो तो इंद्रा जी ने पोस्ट डाल दी तो मैने भी हिम्मत कर के में का दुख लिख दिया, वरना मै तो किसी को कुछ बोल ही नहीं रही थी। अपने पक्ष में बात रखना क्या बुरी बात है।

    • सावन की टीम का, सपोर्ट करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद 🙏

    • Please इंद्रा जी आप पोस्ट डिलीट नहीं करेंगी।आपने कुछ भी अनुचित नहीं लिखा है। बल्कि जी अनुचित हो रहा है, उस पर ही प्रकाश डाला है।🙏

  • कुछ लोग आगे रहने और पवाइंट्स हासिल करने के लिए एक मिनट में 4 कविताओं पर कमेंट कर रहे हैं। जो कि अनैतिक है। ऐसे लोगों को देख किसी ने अपना दिल छोटा नहीं करना चाहिए

  • Bahut Sundar aur Sach likha hai aapne

  • बहुत अच्छी कविता

  • वाकई, गजब का काव्य पाठ

  • चित्र में जैसा दिख रहा है ठीक वैसा वर्णन करने में कवि ने सफलता पाई है।

  • Sateek baat

  • Load More