Pragya Shukla

  • सच बोलने वालों की जहां में कदर नहीं होती
    इमानदारों के पास मखमल की चादर नहीं होती।
    सो जाते हैं वह तो धूप की चादर बिछाकर
    उनके सपनों में पंखों की उड़ान नहीं होती।

  • two liner shayari:-
    मैं तुझसे कहता रहा उस रात
    अपने दिल में मुझे जगह दे दो
    मैं बेचारा गरीब हूँ
    अपने घर में छोड़ी जगह दे दो।

  • तुझसे लंबी जुदाई सही ना जाएगी
    तेरे जाने से मेरी आँख भी भर आएगी
    हो ना जाना कहीं दूर मुझसे तू
    तेरे बिन यह दीवानी मर ही जाएगी।

  • शाम से ढूंढती थी मैं तुझको
    तू न जाने कहाँ खो गया
    मैं तुझे प्रेम की धरती समझती थी
    तू नफ़रत का आसमान हो गया।

  • तुम्हारी ख्वाहिशों को पूरा करने आऊंगा जरूर
    ना उतरा है ना उतरेगा तुम्हारी आँखों का सुरूर

  • संकल्प लें कि समाज में शिक्षा का संदेश फैलाएंगे,
    बेटा हो या बेटी सभी को एक साथ पढ़ाएंगे।

  • आज 14 जुलाई है, फरवरी नहीं
    जो तेरे लिए शायरी लिखूँगा
    मैं डूब चुका हूँ पहले भी
    किसी आँखों में
    अब बार-बार थोड़े ही डूबूंगा।

  • झुकी हुई नज़रें उतनी ही हसीन लगती हैं,
    जितना खुली हुई शराब की बोतल।

  • दौलत चाहे जितनी कमा लो पर
    शोहरत कमाने में जमाने लग जाते हैं।

  • दौलत चाहे जितनी कमालो पर
    शोहरत कमाने में जमाने लग जाते हैं।

  • सुविचार:-
    कभी-कभी अपनी बात पर अटल रहने से
    झुक जाना ही अच्छा होता है।
    जैसे जब आँधी आती है
    तो बड़े पेड़ गिर जाते हैं।
    क्योंकि वह अपनी अकड़ में होते हैं
    परंतु छोटी-छोटी झाड़ियां मगन होकर नाचती हैं
    क्यो […]

  • किसी की अहमियत हमें तभी होती है
    जब वह हमें छोड़ कर चला जाता है।
    ——————————————–
    और किसी की चाहत हमें तभी होती है
    जब वह हमारे मुकद्दर में नहीं होता है।

  • नारी का सम्मान करो हर पल
    आने ना दो उसकी आँखों में आँसू,
    ना धन चाहे ना दौलत चाहे
    वह तो है प्रेम-पिपासु।

  • सिर्फ गुरू, माँ ही ऐसे प्राणी हैं हमारे जीवन में
    जो चाहते हैं कि हम उनसे आगे निकल जाएँ।
    उनके अलावा कोई भी रिश्ता ऐसा नहीं है
    जो हमारी तरक्की चाहता हो
    और हम उससे आगे निकल जायें तब उसे खुशी होती हो।

  • तुम्हारे सपनों में कोई आता है क्या?
    तुम्हारे ख्वाब कोई सजाता है क्या?
    जिस तरह मैं तुम्हारे आगे बिना गलती घुटने टेक देता हूँ
    उस तरह तुम्हें कोई प्यार जताता है क्या?

  • नारी की होती है दूर दृष्टि
    वह सब कुछ सहन कर लेती है।
    पर अपमान सहन नहीं करती
    उसे कोई गंदी नजरों से देखे
    तो वह पीछे से ही पहचान लेती है।

  • यह विपक्ष की कैसी राजनीति?
    अपने आप ही अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारते हैं।
    अपने नेताओं की फोटो खुद ही फाड़ते हैं
    और जब उनके नेता दूसरी पार्टी में जाते हैं
    तो ताने सरकार को मारते हैं।
    कांग्रेस मुक्त भारत कांग्रेस के सहयोग से

  • सीमा पर यह बम बारूदें बंद करो
    लड़ना है तो सामने आकर जंग करो
    हम भारतवासी हैं तुम को धूल चटा देंगे
    तुमको तुम्हारी सीमा पर आकर मिट्टी में मिला देंगे

  • अत्याचार खत्म करने का एक ही है उपाय
    घर-घर में शिक्षा का करें प्रचार-प्रसार।
    शिक्षा ही वह दीपक है जो हर घर में उजाला करती है शिक्षा ही है जो जानवर को इंसान बना देती है।

  • रक्तरंजित इश्क में हज़ार होते हैं ख्वाब
    मगर पूरे नहीं होते।

  • Load More