O dunia ke rakhwale

ओ दुनिया के रखवाले
तूने क्या खूब ये दुनिया बनाई,
सूरज बनाया तूने चंदा बनाया,
तारे बनाए तूने सितारे बनाए,
अंबर ये नीले नीले तूने बनाया,

ओ दुनिया के रखवाले…..
नदियां बनाया तूने झील ये झरने बनाए,
पहाड़ ये ऊंचे ऊंचे खाई गहरे बनाए,
मिट्टी ये प्यारी प्यारी पठार पथरीले बनाया,

ओ दुनिया के रखवाले…..
हरियाली बनाई कहीं जमी बंजर बनाया,
जीवन ये सारे के सारे तूने बनाया ,
ठंडी हवा बनाई तूने फिर तूफा क्यो बनाया,

ओ दुनिया के रखवाले…..
सुख बनाया तो फिर दुख क्यों बनाया ,
मिलन बनाया तूने फिर जुदाई क्यों बनाई ,
जीना सिखाया तो फिर मरना क्यों बनाया |

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Kitni pyari hai ye dharti

कितनी प्यारी है ये धरती, ऊपर अंबर ये नीले नीले, नीचे हरियाली ये धरती, ऊपर सूरज चंदा ये तारे, नीचे जीव जंतु ये सारे, ऊंचे…

Responses

New Report

Close