Suraj chanda nabh ye tare

सूरज चंदा नभ ये तारे,
कितने लगते प्यारे ये नजारे ,
मन मारे हिलकोरे,
चलू सूरज चंदा तारों के द्वारे,

सूरज की चमक से चंदा चमके ,
अपनी ही चमक से चमके ये तारे.
नीला रंग ये आसमान के ,
लगता समुद्र हो आसमा में ,

जब जब रिमझिम बारिश बरसे ,
मन मयूरा छम छम नाचे,
पूनम की रात में चंदा ये तारे,
ऐसे चमके जैसे दिवाली हो आसमां में |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

13 Comments

  1. राम नरेशपुरवाला - September 19, 2019, 3:40 pm

    अति सुन्दर

  2. राम नरेशपुरवाला - September 19, 2019, 3:40 pm

    प्रकृति का अधभूत वर्णन

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 19, 2019, 5:31 pm

    वाह बहुत सुन्दर

  4. ashmita - September 19, 2019, 10:45 pm

    Nice

  5. Deovrat Sharma - September 20, 2019, 10:46 am

    … पूनम की रात में चंदा ये तारे, ऐसे चमके जैसे दिवाली हो आसमां में… सुंदर चित्रण अति सरल भाषा में … बढ़िया लिखा है

Leave a Reply