Tum bin

तुम बिन ये दिल कहीं लगता नहीं,
तू ही बता हम क्या करें,
तेरे सिवा कोई मुझे भाता नहीं,
मेरे तसव्वुर में बस तुम ही तुम हो,
दूसरा कोई और आता नहीं,
तेरी निगाहे मुझे बरबस खींच लेती हैं,
तेरी निगाहों के कैद में जी लूं,
बस यही तमन्ना है अब मेरी |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - October 4, 2019, 6:13 pm

    Kya baat

  2. राही अंजाना - October 4, 2019, 10:07 pm

    बधाई हो।

Leave a Reply