आओ ताली बजाते हैं!

आओ थाली बजाते हैं!
गरीबी का मुंह दिखाने वाली,
बेरोजगारी के लिए ,
आओ ताली बजाते हैं!

देश की कमर तोड़ने वाली
मरी हुई अर्थव्यवस्था के लिए,
आओ थाली बजाते हैं!

झूठ को सच बनाने वाली
दलाल मीडिया के लिए ,
आओ ताली बजाते हैं!

Related Articles

देश दर्शन

शब्दों की सीमा लांघते शिशुपालो को, कृष्ण का सुदर्शन दिखलाने आया हूं,                                  मैं देश दिखाने आया हूं।। नारी को अबला समझने वालों को, मां…

गरीबी

गरीबी एक एहसास है, इसमें एक मीठी सी दर्द है, रोज़ की दर्द में भी संतोष छिपी है, फकीरी में अमीरी का एहसास है, शायद…

Responses

  1. झूठ को सच बनाने वाली
    दलाल मीडिया के लिए
    आओ ताली बजाते हैं

    सच्चाई को आपके सामने ला दिया
    आपकी रचना को सलाम

  2. कम शब्दों में आपने बहुत कुछ कह दिया, सही अर्थों में आपकी कविता गागर में सागर है
    ‘आओ ताली बजाते हैं!’ बहुअर्थी प्रयोग है

New Report

Close