“आखिरी जंग”

नत मस्तक
शीश झुकाए
कतारबद्ध खडा हूं मैं
लिए लघु हृदय
वीरों संग
दौड चला
घावो की परवाह
किए बिना
तत्पर हूं
कुछ करने को
इस देश के लिए
मरने को
बना लिया है
लक्ष्य अब
विजय पताका
लहराना बस
शीर्ष कारज
रहेगा अब


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

याद कर लो सभी आज उनको

15 अगस्त का पर्व है

कब आयेगा नया सवेरा

दुर्लभ पेड़

3 Comments

  1. anupriya sharma - August 11, 2016, 10:35 pm

    Nice poem

  2. Sridhar - August 13, 2016, 1:28 am

    nice one

  3. Satish Pandey - July 31, 2020, 8:49 am

    जय हिंद

Leave a Reply