उन वीरों को नमन करें हम

उन वीरों को नमन करें हम
जो सीमा पर जूझ रहे हैं ,
भारत माँ की रक्षा खातिर
जो दुश्मन को कूट रहे हैं।
ऊँचे – ऊँचे, ठन्डे – ठन्डे
कठिन पर्वतों की चोटी पर,
अडिग खड़े हैं, निडर खड़े हैं
जोशीले भरपूर रहे हैं।
दुश्मन की घुसपैठ रोकने
को ताने बंदूक खड़े हैं,
भारतमाता के चरणों में
लहू चढाने कूद पड़े हैं।
भारतमाता की जय के नारे
लगा रहे हैं सीमा पर,
सारा मुल्क सलामी देता
स्नेह निछावर वीरों पर।
——- डॉ सतीश पांडेय

Related Articles

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

Responses

  1. जय हो जय हो, जय हिन्द, सावन में इस सावन में देश प्रेम की जो लहर चल रही है , वह काबिलेतारीफ है

    1. धन्यवाद जी जो आप देश प्रेम की इतनी सुन्दर पंक्तियाँ लिख रहे हैं इस प्लेटफार्म का सुंदर सदुपयोग हो रहा है

  2. प्रोत्साहन मिले हमारे वीरों को
    सदा हमारी कविता से।
    प्रच्छालित पद पंकज हो इनके
    नित नयन नीर सरिता से ।। शत बार नमन।।
    बहुत खूब। जय जवान। जय हिन्दुस्तान।।

  3. देशभक्ति पर सुंदर रचना वीर रस तथा पुनरुक्ति अलंकार का उत्तम प्रयोग

New Report

Close