ए ज़िन्दगी – 8

ए ज़िन्दगी

 

हौसलों की परवाज़ो से

हर मुश्किल छोटी कर पाई है

                        

                                      …… यूई

Related Articles

कविता : हौसला

हौसला निशीथ में व्योम का विस्तार है हौसला विहान में बाल रवि का भास है नाउम्मीदी में है हौसला खिलती हुई एक कली हौसला ही…

Responses

New Report

Close