करतब

कोई तो करतब कोई तो जादू दिखलाना चाहिए,
धरती पे रहने वालों को आसमां पे जाना चाहिए,

बहाने बनाने को तो बैठे हो तुम हजार मेरे यार,
कभी झूठ को भी सच्चा आईना दिखाना चाहिए,

जरूरी नहीं के ये हाथ जोड़ कर काम बन जाए,
हथेलियाँ खोल केभी किस्मत आजमाना चाहिए,

ख्यालों में हासिल है जो उसकी हकीकत समझो,
अँधेरे को चीरते हुए तुम्हें रौशनी में आना चाहिए,

बैठ कर बातें करने के मौसम अब कहाँ लौटेंगे,
दो मिनट मिलने में भी लोगों को मैख़ाना चाहिए,

खुद को ढूढ़ने की तलाश में मत खो जाना राही,
अंजाना होकर भी तुम्हें पहचाना जाना जाहिए॥

राही अंजाना

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - November 8, 2019, 6:36 pm

    Khub kha

  2. Astrology class - November 8, 2019, 8:48 pm

    Nice

  3. nitu kandera - November 9, 2019, 5:13 pm

    Good

  4. देवेश साखरे 'देव' - November 9, 2019, 9:48 pm

    वाह

Leave a Reply