कविता- इंसान मे जानवर

कविता- इंसान मे जानवर
हाथी एक जानवर मगर
इंसान की इंसानियत ढोता रहा |
थके मांदे एक शेर के बच्चे को
अपनी सुंढ मे ढोता रहा |
इंसान कहने को आदमी मगर
जानवर से बदतर होता जा रहा |
गर्भवती हथिनी को
बम भरा फल खिलाये जा रहा |
दर्द की हद को हराने
जल के अंदर साँसे रोक
मुंह को जल मे सुबाए
पानी और पानी पिता रहा |
खड़े खड़े अपनी जिंदगी की
साँसे रोके जा रहा |
पशु हिंसक हो सकता था
कितनों को रौंद सकता था
मगर दर्द सारा खुद सह लिया |
तोड़ अपने साँसे
दुनिया से बिदा हो लिया |
सम्झना मुश्किल है
जानवर इंसान बन गया
या जानवर मे इसान जिंदा हो रहा |
श्याम कुँवर भारती (राजभर )
कवि/लेखक /समाजसेवी
बोकारो झारखंड ,मोब 9955509286

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

अपहरण

” अपहरण “हाथों में तख्ती, गाड़ी पर लाउडस्पीकर, हट्टे -कट्टे, मोटे -पतले, नर- नारी, नौजवानों- बूढ़े लोगों  की भीड़, कुछ पैदल और कुछ दो पहिया वाहन…

Responses

New Report

Close