कहां जाओगे

दस्तकश कहां जाओगे।
क्या मुझे भूल पाओगे।

मैं तो तुम्हारी आदत हूं,
क्या आदत बदल पाओगे।

ख्वाब में मैं, जेहन में मैं,
हर-शू मुझे हर पल पाओगे।

इतना आसां नहीं भूल पाना,
बगैर मेरे संभल पाओगे।

दिल से ‘देव’ पुकार तो लो,
आज पाओगे, मुझे कल पाओगे।

देवेश साखरे ‘देव’

दस्तकश- हाथ छुड़ा कर

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. राम नरेशपुरवाला - September 11, 2019, 3:37 pm

    वाह

  2. ashmita - September 11, 2019, 3:52 pm

    Nice

  3. Poonam singh - September 11, 2019, 4:34 pm

    Nice

Leave a Reply