कोरोना मार भगाना है

कुछ दिन रहेंगे
घर में आइशोलेट।
नहीं करेंगे बाहरी दुनिया से हम भेंट।।
मुख पर मास्क हाथ दस्ताना।
फिर भी नहीं कोई हाथ मिलाना।
धोओ हाथ करो सेनेटाईजर।
हल्दी तुलसी सेवो अक्सर।।
सूझबूझ और धैर्य से रहकर
खुद को कोरोना से बचाना है।
अपने संग-संग निज समाज
महामारी मुक्त बनाना है।।
स्वस्थ समाज और स्वस्थ राष्ट्र
दुनिया सुखी बनाना है।
‘विनयचंद ‘सब मिलकर मित्रों
कोरोना मार भगाना। है


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

गजल- कोरोना कहर

कोरोना बुरा है

कोरोना को हराना है

तड़ीपार हो गए

5 Comments

  1. Deepak Sharma - March 29, 2020, 5:15 pm

    Very nice pandit ji

  2. Anuj Jha - March 30, 2020, 8:46 am

    Adbhut rachna

  3. Kanchan Dwivedi - March 30, 2020, 3:59 pm

    Bahut khoob

  4. Pragya Shukla - April 1, 2020, 2:09 pm

    Good

  5. Priya Choudhary - April 2, 2020, 4:43 pm

    Nice

Leave a Reply