क्या हुआ है शहर को आख़िर

आप सब की नज़र को आख़िर ,
क्या हुआ है शहर को आख़िर .

नफरतों की लिए चिंगारी ,
लोग दौड़े कहर को आख़िर .

चाँदनी चौक की वह दिल्ली ,
आज भूखी गदर को आख़िर .

मजहबी क्यों सियासत करके ,
घोलते हो ज़हर को आख़िर .

जिस्म से दूर रहकर भरसक ,
रूह तड़पी सजर को आख़िर .

ज़िन्दगी का हिसाब क्या दें ,
जिंदगी भर बसर को आख़िर .

ऐ ज़मानों वफ़ा मत परखो ,
फैशनों में असर को आख़िर .

खामखाँ प्यार करके ‘रकमिश’ ,
रौंद बैठे जिगर को आख़िर .

-रकमिश सुल्तानपुरी

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

लाल चौक बुला रहा हमें, तिरंगा फहराने को

सिहासन के बीमारों ,कविता की ललकार सुनो। छप्पन ऊंची सीना का उतर गया बुखार सुनो। कश्मीर में पीडीपी के संग गठजोड किये बैठे हैं। राष्ट्रवाद…

Responses

New Report

Close