क्या हुआ है शहर को आख़िर

आप सब की नज़र को आख़िर ,
क्या हुआ है शहर को आख़िर .

नफरतों की लिए चिंगारी ,
लोग दौड़े कहर को आख़िर .

चाँदनी चौक की वह दिल्ली ,
आज भूखी गदर को आख़िर .

मजहबी क्यों सियासत करके ,
घोलते हो ज़हर को आख़िर .

जिस्म से दूर रहकर भरसक ,
रूह तड़पी सजर को आख़िर .

ज़िन्दगी का हिसाब क्या दें ,
जिंदगी भर बसर को आख़िर .

ऐ ज़मानों वफ़ा मत परखो ,
फैशनों में असर को आख़िर .

खामखाँ प्यार करके ‘रकमिश’ ,
रौंद बैठे जिगर को आख़िर .

-रकमिश सुल्तानपुरी


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

जन्मदिन शुभकामना

माता सीता

वायरस

श्रीराम और हनुमान

7 Comments

  1. Kanchan Dwivedi - March 3, 2020, 4:20 pm

    Nice

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - March 3, 2020, 4:21 pm

    Nice

  3. Anu Somayajula - March 4, 2020, 6:52 pm

    Nice

  4. Antariksha Saha - March 4, 2020, 9:06 pm

    Bahut khoob bhai.

  5. Pragya Shukla - March 4, 2020, 9:14 pm

    Good

  6. Dhruv kumar - March 6, 2020, 11:39 am

    Nyc

  7. Priya Choudhary - March 6, 2020, 3:16 pm

    Bhut sunder 👏

Leave a Reply