क्यूँ देखूँ

तुमने कह तो दिया मगर
दिल को तसल्ली ना हुई
शब तो हो गई पर
मैं ना सोई
गुजार दी ज़िन्दगी तेरी
आरज़ू करने के बाद
किसी और को क्यूँ देखूँ तुम्हें देखने के बाद
रूबरू तुम आये भी नहीं मगर
महसूस तो किया मैनें हर लम्हा तुमको
दिल लगा लिया तुमसे मिलने के बाद
किसी और को क्यूँ देखू तुम्हें देखने के बाद


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

ग़ज़ल। सभी को मौत के डर ने ही..

हर सदी इश्क की

विनती

चितचोर सावन

8 Comments

  1. Anita Mishra - March 23, 2020, 9:46 pm

    सुंदर भाव हैं

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - March 24, 2020, 8:12 am

    Nice

  3. Anita Mishra - March 24, 2020, 8:53 pm

    सुंदर भाव हैं

  4. Dhruv kumar - March 26, 2020, 10:39 am

    Nyc

Leave a Reply