“ख्वाहिशें”

ღღ_अजब ही चीज़ हैं, ये ख्वाहिशें “साहब”,
मैं टूट भी जाऊँ, तो बिखरने नहीं देती;
.
एक तुम हो, कि मुझसे दूर ही रहते हो,
और एक ये हैं, कि मरने भी नहीं देतीं !!……‪#‎अक्स

.

10620630_176906289310741_1064244725122345716_n

Related Articles

Tum bin

तुम बिन मैं एक बूँद हूँ, तुम मिलो तो सागर बन जाऊँ… तुम बिन मैं एक धागा हूँ, तुम मिलो तो चादर बन जाऊँ… तुम…

Responses

New Report

Close