गजल

2122 1212 22

कुछ दिनों से खफा-खफा सा है ।

चाँद मेरा छुपा-छुपा सा है ।।

 

कुछ तो जिन्दा है जिस्म के अंदर ;

और कुछ तो जुदा-जुदा सा है ।

 

जब से’ उतरा हूँ’ होश की तह में  ;

होश तब से हवा-हवा सा है ।

 

सादगी से बदल गयी रंगत  ;

ये असर भी नया-नया सा है ।

 

उसकी’ सांसों ने’ छू लिया था कल ;

जिस्म से रूह तक छुआ सा है ।

 

उसने’ भी आग को हवा दी थी ;

हर तरफ जो धुँआ-धुँआ सा है ।

राहुल द्विवेदी ‘स्मित’

Related Articles

ग़ज़ल

२१२२ १२१२ २२ अपने ही क़ौल से मुकर जाऊँ । इससे बेहतर है खुद में (खुद ही) मर जाऊँ ।। तू मेरी रूह की हिफ़ाजत…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. राहुल भाई इस 2 लाइन्स में गज़ब का जादू है
    जब से’ उतरा हूँ’ होश की तह में ;
    होश तब से हवा-हवा सा है ।

    मज़ा आ गया |

New Report

Close