गलती

हो सके प्रभु तो मेरे गुनाहो को माफ कर देना।

इन्सान हूँ गलतियां होना तो लाजमी ही है।।

Related Articles

हम दीन-दुःखी, निर्बल, असहाय, प्रभु! माया के अधीन है ।।

हम दीन-दुखी, निर्बल, असहाय, प्रभु माया के अधीन है । प्रभु तुम दीनदयाल, दीनानाथ, दुखभंजन आदि प्रभु तेरो नाम है । हम माया के दासी,…

Responses

New Report

Close