गायब हर मंजर मेरा

गायब हर मंजर मेरा
ढूढ़े परिंदा घर मेरा

जंगल में गुम फ़स्ल मेरी
नदी में गुम पत्थर मेरा

दुआ मेरी गुम सर सर में
भंवर में गुम महवर मेरा

नाफ़ में गुम सब ख्वाब मेरे
रेत में गुम बिस्तर मेरा

सब बेनूर क्यास मेरे
गुम सार दफ़्तर मेरा

कभी कभी सब कुछ गायब
नाम कि गुम अक्सर मेरा

मैं अपने अंदर की बहार
बानी क्या बाहर मेरा


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Loves life I live :)

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

1 Comment

  1. राम नरेशपुरवाला - September 12, 2019, 12:43 pm

    Good

Leave a Reply