गीतिका

0

जीवन तो है आना जाना।
अपने फर्ज कभी न भुलाना।
अपने वतन पर मिटेंगे हम
कभी न कदम पीछे हटाना।
जो जां काम न आए वतन पर
कैसे मां रा कर्ज चुकाना।
आओ कदम बड़ाएं मिलकर
देश को यूं आगे बड़ाना।
तिरंगा घर घर लहराएगा
दुश्मन का न तुम खौफ खाना।।।
कामनी गुप्ता ***

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

आजादी

मैं अमन पसंद हूँ

So jaunga khi m aik din…

2 Comments

  1. Sridhar - August 17, 2016, 1:24 am

    Bahut khub ji

Leave a Reply