गुजार दी जिन्दगी..

गुजार दी मैंने जिन्दगी बस इन्तजार में
तुम आकर सम्भाल लोगे मुझे टूटते हुए..

Related Articles

Responses

New Report

Close