****जकड़ी है****

****जकड़ी है****

****जकड़ी है****

 

कुर्बानी से उपजी थी अब तस्वीरों में जकड़ी है,

ऐ हिंद! तेरी आज़ादी सौ-सौ जंजीरों में जकड़ी है l

 

 

हर मुफलिस की भूख ने इसको अपनी कैद में रख्खा है,

और यही पैसे वालों की जागीरों में जकड़ी है l

 

 

मां-बहनों पर दिन ढलते ही खौफ़ का साया रहता है,

और हवस के भूखों की ये तासीरों में जकड़ी है l

 

 

भ्रष्टाचार का दानव इसको बरसों-बरस सताता है,

ये संसद की उल्टी-सीधी तदबीरों में जकड़ी है l

 

 

मजहब के साये में दंगे रोज पनपते जाते हैं,

ये जन्नत की ख्वाहिश वाले ताबीरों में जकड़ी है l

 

 

कलमगार की बिकी कलम ने वक्त से नाता तोड़ लिया,

ये गद्दारों के हाथों अब गालिब-मीरों में जकड़ी है ll

 

Word-meanings-

 

मुफलिस=गरीब

तासीर=चरित्र

तदबीर=सलाह/राय

ताबीर=सपनों की हक़ीक़त

 

All rights reserved.

 

-Er Anand Sagar Pandey


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

आजादी

मैं अमन पसंद हूँ

So jaunga khi m aik din…

2 Comments

  1. Kamal Tripathi - August 22, 2016, 3:56 pm

    kya khoob kha sir ji

  2. Kanchan Dwivedi - March 20, 2020, 9:55 pm

    Bahut khoob

Leave a Reply