ठोकर

कदम-दर-कदम है ठोकर लगी।
ज्ञान की जोत दिल में है निश दिन जगी।
फिर भी ना बुद्धि तुम्हारी बढ़ी।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. Pragya Shukla - May 16, 2020, 12:15 pm

    Good

  2. Priya Choudhary - May 16, 2020, 1:44 pm

    Nice

  3. Dhruv kumar - May 16, 2020, 4:18 pm

    Nyc

  4. Shyam Kunvar Bharti - May 16, 2020, 5:11 pm

    bahut khub

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - May 16, 2020, 6:14 pm

    वाह बहुत सुंदर

  6. Abhishek kumar - May 16, 2020, 7:40 pm

    Good

Leave a Reply