तुम धूप बुला लो

0

आँसुओं से भीगे हुए, तकिये को हटा लो,
तुम आस के रूठे हुए, पंछी को बुला लो,
अन्मनी रातों के चांद बुझा दोगे तुम,
ये रात ढ़ल जायेगी गर, तुम धूप बुला लो ।।

copyright@ नील पदम्

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 1, 2019, 7:34 am

    Nice Nice

  2. Abhishek kumar - December 1, 2019, 10:03 am

    Good

  3. Neha - December 1, 2019, 12:00 pm

    bahut khoob

  4. देवेश साखरे 'देव' - December 1, 2019, 5:44 pm

    वाह

  5. नील पदम् - December 1, 2019, 7:14 pm

    आपका धन्यवाद

Leave a Reply