तेरी अदाओं की है

यह जो मेरी चाल में है मसतानीयाँ

तेरी अदाओं की है तो यह नादानीयाँ

                            …… यूई

Related Articles

जुआरी हूं

कविता -जुआरी हूं ———————– हां जुआरी हूं, एक बार जुआ और खेलने दो, जो बचा है मेरे पास अब दांव पर लगाकर खेलूंगा, बिक गया…

Responses

New Report

Close