थोड़ा सा बस संभला हूँ

जन्मो जन्म राहें अपनी भटकाई मैंने

इसी लिए तो तेरी राह ख़ुद गंवाई मैंने

अब जाके कुछ थोड़ा सा बस संभला हूँ

सब सोचे छोड़ जब तेरे रंग में रंगला हूँ

                                    …. यूई


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Poet, Film Screenplay Writer, Storyteller, Song Lyricist, Fiction Writer, Painter - Oil On Canvas, Management Writer, Engineer

Related Posts

आज कुछ लिखने को जी करता है

“ना पा सका “

“ना पा सका “

“मैं कौन हूँ”

“मैं कौन हूँ”

6 Comments

  1. Anushreee Sharma - April 10, 2016, 6:43 pm

    Achi laaene

  2. Panna - April 11, 2016, 4:42 pm

    umda!

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 8, 2019, 7:48 pm

    वाह बहुत सुंदर

  4. Kanchan Dwivedi - March 9, 2020, 6:17 am

    Good

  5. प्रतिमा चौधरी - September 6, 2020, 5:44 pm

    सुन्दर

Leave a Reply