धर्मयुद्ध

कोई वरिष्ठ था
कोई गरिष्ठ था
कोई पहनके इच्छामृत्यु का चोला।
पुत्र मोह के चादर में कोई
और प्रतिशोध आदर में कोई
ले तन मन में प्रतिकार का गोला।।
मित्र सम्बन्धी बनकर कोई
लवण की ऋणियाँ बनकर कोई
धर्मयुद्ध करने को आए कुरूक्षेत्र के टोला।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Pragya Shukla - May 11, 2020, 3:46 pm

    Good

  2. Abhishek kumar - May 11, 2020, 3:49 pm

    Nice

  3. Priya Choudhary - May 11, 2020, 5:53 pm

    Nice

  4. Abhishek kumar - May 17, 2020, 12:42 pm

    👌

Leave a Reply