नासमझ

जो अपनी खुद की पहचान छिपाये बैठे है।
वो नासमझ मेरे वजूद पर शर्त लगाये बैठे है।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मुस्कुराना

वह बेटी बन कर आई है

चिंता से चिता तक

उदास खिलौना : बाल कबिता

10 Comments

  1. Pragya Shukla - July 16, 2020, 9:40 am

    अति सुन्दर

  2. Pragya Shukla - July 16, 2020, 9:40 am

    समझदार को इशारा काफ़ी

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - July 16, 2020, 10:52 pm

    वाह

  4. Vasundra singh - July 18, 2020, 11:42 am

    वाह बहुत खूब

  5. प्रतिमा चौधरी - September 26, 2020, 1:39 pm

    बहुत सुंदर

Leave a Reply