पथ के राही न भटक

=राही पथ से न भटक=योगेश ध्रुव”भीम”
×××××××××××××××

अडिग मन राह शांत हो,
निश्छल जीवन लेकर चल,
चाहे भटके मन: चंचल,
जीवन नाथ के तू चल,
पथ के राही न भटक
ऐसे पथ में तू चल ||

न डिगा अपना नियत,
ऐसे नियति बना कर चल,
मिला जीवन सौभाग्य पूर्ण यह,
दुर्भाग्य गर्त में न डाल के चल,
पथ के राही न भटक,
ऐसे पथ में तू चल ||

लक्ष्य ऐसा अडिग कल्पना ,
ऐसे मूरत बना के चल,
कल्पना की कामयाबी,
सकार जीवन लेकर चल,
पथ के राही न भटक,
ऐसे पथ में तू चल ||

अंतिम पड़ाव उस जीवन की,
ऐसा मूरत बना कर चल,
जन मानस की मन:पटल पर,
ऐसे चित्र उकेर कर चल,
पथ के राही न भटक ,
ऐसे पथ में तू चल ||


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

तुम्हे सुमरने से मिल जाता हैं

मां के साथ ये कौन है

उदासी

सावन

3 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - May 2, 2020, 11:57 am

    Nice

  2. Abhishek kumar - May 8, 2020, 1:40 pm

    👏👏

Leave a Reply