प्यारी माँ

जब मैं छोटी बच्ची थी
माँ की प्यारी दुलारी थी
माँ तो हमको दूध पिलाती,
माँ भी कितनी भोली – भाली ।

माखन – मिश्री घोल खिलती
बड़े मजे से गोद में सुलाती,
माँ तो कितनी अच्छी है
सारी दुनिया उसमें है ।

– Rajat

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

पिता

माँ

माँ

माँ

माँ

2 Comments

  1. Kavi Manohar - July 17, 2016, 11:55 am

    Ati sundar

  2. Sridhar - July 18, 2016, 7:03 am

    bahut khoob …

Leave a Reply